🏏 कैसे चली Rohit Sharma ने चेन्नई में Dhoni की चाल? 🚀🔥World Cup 2023 Cricket News in hindi

🏏 क्रिकेट विश्व कप: ऑस्ट्रेलिया को चेन्नई में 200 रन के अंदर समेटने के लिए भारत ने कैसे अपनाया धोनी का तरीका?

स्पिन महारत के रोमांचक प्रदर्शन में, भारत की क्रिकेट टीम ने विश्व कप के शुरुआती मैच में ऑस्ट्रेलिया को हराने के लिए चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) से उधार ली गई रणनीति को सफलतापूर्वक लागू किया। टीम में तीन विश्व स्तरीय स्पिनरों-रवींद्र जड़ेजा, आर अश्विन और कुलदीप यादव- के साथ, भारत ने CSK के घरेलू मैदान की याद दिलाते हुए एमए चिदंबरम स्टेडियम की टर्निंग पिच को अपनाया।

रवींद्र जडेजा, जो इस पिच को अपने हाथ के पिछले हिस्से की तरह जानते हैं, परिस्थितियों से खुश थे। मैच से पहले पिच का निरीक्षण करते हुए उन्होंने हार्दिक पंड्या के साथ अपना उत्साह साझा किया। यह पिच अपने तेज़ टर्न और पकड़ के लिए जानी जाती है, जिससे बल्लेबाजों के लिए तालमेल बिठाने की बहुत कम जगह बचती है।

आईपीएल के दौरान, सीएसके एमएस धोनी द्वारा तैयार किए गए टेम्पलेट का अनुसरण करती है, जो स्पिन-अनुकूल पिचों पर ध्यान केंद्रित करती है। एक सप्ताह तक चेन्नई में रहने के बाद, ऑस्ट्रेलिया ने चुनौती का अनुमान लगाया और समान सतहों पर अभ्यास किया। मैच से पहले ओस नहीं होने और न्यूनतम पानी होने के कारण, पिच अपने प्राकृतिक चरित्र के अनुसार खेली।

🏏 कैसे चली Rohit Sharma ने चेन्नई में Dhoni की चाल? 🚀🔥World Cup 2023 Cricket News in hindi

एमए चिदम्बरम स्टेडियम की भीड़ को उत्साहित होने के लिए ज्यादा जरूरत नहीं है। एक स्पिन गेंद कमाल कर सकती है, जैसा कि तब देखा गया जब जडेजा ने गेंद को तेजी से घुमाया, जिससे प्रशंसकों और साथी खिलाड़ियों से समान रूप से प्रशंसा मिली।

भारत का जडेजा, अश्विन और कुलदीप को मैदान पर उतारने का फैसला सफल रहा। उन्होंने मिलकर प्रभावशाली आंकड़े बनाए, जिसमें जडेजा विशेष रूप से किफायती रहे, उन्होंने 10 ओवरों में केवल 28 रन दिए और तीन विकेट लिए, जिसमें स्टीव स्मिथ का महत्वपूर्ण आउट भी शामिल था। इस पतन के कारण ऑस्ट्रेलिया 140/7 पर सिमट गया।

स्पिन की मददगार पिच पर जड़ेजा की असाधारण गेंदबाजी देखने लायक थी। उन्होंने एक गेंद फेंकी जो मध्य और लेग स्टंप की लाइन में पिच हुई और तेजी से घूमकर ऑफ स्टंप के शीर्ष पर जा गिरी, जिससे स्मिथ आउट हो गए। इसके बाद उन्होंने लाबुशेन और एलेक्स कैरी को जल्दी-जल्दी आउट कर ऑस्ट्रेलिया की मुश्किलें बढ़ा दीं।

अश्विन और कुलदीप ने भी अपनी गति में बदलाव करके और महत्वपूर्ण विकेट लेकर अपनी भूमिका निभाई। ऑस्ट्रेलिया का निचला क्रम भारत के लिए चुनौतीपूर्ण लक्ष्य निर्धारित करते हुए 199 तक पहुंचने में कामयाब रहा।

भीड़ ने “धोनी, धोनी” के नारे लगाए, जो इस जीत पर CSK के टेम्पलेट के प्रभाव को दर्शाता है। विश्व कप के शुरूआती मैच में भारत को चेन्नई की राह अपनाने के फैसले का अच्छा फायदा मिला।

सारांश बिंदु (Summary Points)

  1. भारत की क्रिकेट टीम ने विश्व कप के शुरुआती मैच में ऑस्ट्रेलिया को हराने के लिए चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) से प्रेरित स्पिन-अनुकूल रणनीति अपनाई।
  2. एमए चिदम्बरम स्टेडियम की पिच से परिचित होने के कारण रवींद्र जडेजा ने एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और वह परिस्थितियों से उत्साहित थे।
  3. एमएस धोनी द्वारा तैयार सीएसके टेम्पलेट, आईपीएल के दौरान स्पिन-अनुकूल पिचों पर केंद्रित है, और भारत ने एक समान दृष्टिकोण का पालन करने का फैसला किया।
  4. ऑस्ट्रेलिया स्पिन चुनौती के लिए अच्छी तरह से तैयार था, उसने मैच से पहले इसी तरह की सतहों पर अभ्यास किया था।
  5. ओस रहित और न्यूनतम पानी वाली पिच स्पिन के लिए अनुकूल थी और जडेजा, अश्विन और कुलदीप यादव ने इसका फायदा उठाया।
  6. टर्निंग पिच पर जडेजा की असाधारण गेंदबाजी के परिणामस्वरूप महत्वपूर्ण विकेट मिले, जिसमें स्टीव स्मिथ का विकेट भी शामिल था।
  7. स्पिनरों की तिकड़ी ने प्रभावी ढंग से संयोजन किया और भारत ऑस्ट्रेलिया को 199 के चुनौतीपूर्ण स्कोर पर रोकने में सफल रहा।
  8. सीएसके के टेम्पलेट का प्रभाव भीड़ के “धोनी, धोनी” के नारों में स्पष्ट था।
  9. चेन्नई के रास्ते को अपनाने का भारत का निर्णय विश्व कप के पहले मैच में सफल साबित हुआ।

कुछ अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

1. भारत ने विश्व कप के शुरुआती मैच में ऑस्ट्रेलिया को हराने के लिए क्या रणनीति अपनाई?

भारत ने चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) से प्रेरित एक स्पिन-अनुकूल रणनीति अपनाई, जिसमें टर्निंग पिच पर विश्व स्तरीय स्पिनरों का उपयोग करने पर ध्यान केंद्रित किया गया।

2. इस मैच में भारत के लिए प्रमुख स्पिनर कौन थे?

भारत के लिए प्रमुख स्पिनर रवींद्र जड़ेजा, आर अश्विन और कुलदीप यादव थे।

3. रवीन्द्र जड़ेजा एमए चिदम्बरम स्टेडियम की पिच को लेकर विशेष रूप से उत्साहित क्यों थे?

जडेजा उत्साहित थे क्योंकि एमए चिदम्बरम स्टेडियम की पिच अपनी तेज टर्न और पकड़ के लिए जानी जाती है, जो उनके जैसे स्पिनरों के लिए अनुकूल है।

4. एमएस धोनी द्वारा तैयार किए गए सीएसके टेम्पलेट ने भारत की रणनीति में क्या भूमिका निभाई?

सीएसके टेम्पलेट, जो स्पिन-अनुकूल पिचों पर जोर देता है, ने इस मैच में भारत के दृष्टिकोण को प्रभावित किया।

5. पिच की स्थिति के लिहाज से ऑस्ट्रेलिया ने मैच के लिए कैसे तैयारी की?

ऑस्ट्रेलिया ने स्पिन चुनौती का अनुमान लगाया और मैच से पहले सप्ताह में चेन्नई में इसी तरह की सतहों पर अभ्यास किया।

Leave a Comment